बुधवार, 16 अक्तूबर 2019

करवाचौथ का बाजारयुग…ऐसे किस देवता की उपासना करें हम

श्‍याम बेनेगल के धारावाहिक भारत एक खोज की वे पंक्‍तियां आज तक याद हैं मुझे… ”ऐसे किस देवता की उपासना करें हम हवि देकर…”।
भारत एक खोज में इस प्रारंभ-गीत को ऋग्‍वेद के जिस नासदीय सूक्‍त से अनूदित कर वसंत देव द्वारा हिंदी में लिखा गया था, वह नासदीय सूक्‍त का ये श्‍लोक इस तरह है –
नासदासीन नो सदासीत तदानीं नासीद रजो नो वयोमापरो यत।
किमावरीवः कुह कस्य शर्मन्नम्भः किमासीद गहनं गभीरम॥
पूरे श्‍लोक में देवता की उपासना के संग-संग जीवन पद्धति की स्‍थापना को लेकर कई प्रश्‍नोत्‍तर हैं जिसमें संतुलित जीवन जीने के लिए ही स्‍थापित की गई ”जीवन पद्धति” सनातन धर्म का आधार बनी। और यही धर्म धीरे धीरे जड़ परंपराओं, अशिक्षा से ग्रस्‍त रीति रिवाजों की धमनियों से बहता हुआ आज हमारे सामने अपने सबसे सतही और हल्‍के रूप में उपस्‍थित है। धर्म के इस बाजारी रूप को यहां तक लाने में धर्म के कारोबारियों का बड़ा हाथ है जिनके ऊपर आमजन ने आंख मूंदकर विश्‍वास किया।
इसी ”विश्‍वास” के ”बाजार’ का कल हम करवा चौथ के आधुनिक रूप में दीदार करेंगे। करवा चौथ यानि सुहागिनों का ” निर्जल व्रत” वाला त्‍यौहार। पति की लंबी उम्र मांगने का ‘अहसान’ उन्‍हीं की जेब पर उतारा जाता है। इस बार यह त्‍यौहार अपने अब तक के सबसे वीभत्‍स रूप में हमारे सामने है। गहनों, कपड़ों, ब्‍यूटी पार्लर्स से आगे बढ़ता हुआ बाजार अब डिजायनर करवों, पूजा की थालियों, सरगी की सामिग्री के 500 रुपये से लेकर हजारों के पैकेजों सहित उपलब्‍ध है जो शोशेबाजी और शारीरिक साजसज्‍जा तक सिमट कर रह गया है।
दरअसल करवा चौथ भगवान गणेश की आराधना का पर्व है जिसमें सिर्फ पति ही नहीं, संतान व परिवार के प्रत्‍येक सदस्‍य के लिए सद्बुद्धि की आराधना की जाती है परंतु इसे सिर्फ पति तक सीमित कर दिया गया। ये क्‍यों और कब हुआ, इसका तो नहीं पता परंतु इतना अवश्‍य है कि ”कुछ लोगों” तक सिमटी शिक्षा के चलते ये अपभ्रंशित तस्‍वीर ही करवा चौथ बनकर रह गई है। जिन व्रतों को जीवनपद्धति के लिए स्‍थापित किया गया था, उन्‍हें बाजार ने निगल लिया और गिफ्ट के लेनदेन ने इसे ”व्‍यवहार” बनाकर रख दिया। करोड़ों रूपये के सौंदर्य प्रसाधन, जूलरी व कपड़ों की खरीदफरोख्‍़त से बाजार में तब्‍दील ये ”व्रत” सोचने को बाध्‍य करता है कि आखिर यह किस तरह की परंपरा और कैसी जीवन पद्धति का अनुसरण कर रहे हैं हम।
तो नासदीय सूक्‍त की भांति हम भी आखिर ऐसे किस देवता की उपासना करें जो हमें इस कुचक्र से निकाल सके और टूटते बिखरते रिश्‍तों के इस कठिन समय में परिवार और समाज के काम आ सके। बाजार पर आधारित परंपरा हो या धर्म, या फिर जीवन पद्धति ही क्‍यों न हो वो तो अंतत: क्षोभ ही उत्‍पन्‍न करेगा, संतुष्‍टि नहीं। ये समझना इस दौर की सबसे बड़ी जरूरत है।
इसी के साथ नासदीय सूक्‍त का वसंत देव द्वारा ये हिंदी अनुवाद पढ़िए-
सृष्टि से पहले सत नहीं था
असत भी नहीं
अंतरिक्ष भी नहीं
आकाश भी नहीं था
छिपा था क्या, कहाँ
किसने ढका था
उस पल तो
अगम अतल जल भी कहां था
सृष्टि का कौन है कर्ता?
कर्ता है या विकर्ता?
ऊँचे आकाश में रहता
सदा अध्यक्ष बना रहता
वही सचमुच में जानता
या नहीं भी जानता
है किसी को नहीं पता
नहीं पता
नहीं है पता
नहीं है पता
वो था हिरण्य गर्भ सृष्टि से पहले विद्यमान
वही तो सारे भूत जाति का स्वामी महान
जो है अस्तित्वमान धरती आसमान धारण कर
ऐसे किस देवता की उपासना करें हम हवि देकर
जिस के बल पर तेजोमय है अंबर
पृथ्वी हरी भरी स्थापित स्थिर
स्वर्ग और सूरज भी स्थिर
ऐसे किस देवता की उपासना करें हम हवि देकर
गर्भ में अपने अग्नि धारण कर पैदा कर
व्यापा था जल इधर उधर नीचे ऊपर
जगा जो देवों का एकमेव प्राण बनकर
ऐसे किस देवता की उपासना करें हम हवि देकर
ऊँ! सृष्टि निर्माता, स्वर्ग रचयिता पूर्वज रक्षा कर
सत्य धर्म पालक अतुल जल नियामक रक्षा कर
फैली हैं दिशायें बाहु जैसी उसकी सब में सब पर
ऐसे ही देवता की उपासना करें हम हवि देकर
ऐसे ही देवता की उपासना करें हम हवि देकर…
गीत बेशक बड़ा है परंतु आज के संदर्भ में इसे न केवल पढ़ना बल्‍कि इसका मनन करना भी बेहद आवश्‍यक हो गया है क्‍योंकि रुढ़िवादी परंपराएं धर्म धारण करने और धर्म के मार्ग से भटकाने का काम बड़ी तेजी से करती हैं।
-अलकनंदा सिंह

शनिवार, 28 सितंबर 2019

प्रदेश की मेधाशक्‍ति के हित में आदेश, जिस पर राजनीति होना तय है

देशभर में शैक्षिक गुणवत्‍ता के गिरते स्‍तर वाले समाचारों के बीच उत्‍तर प्रदेश सरकार की ओर से एक खबर अच्‍छी आई है जिसमें प्राइवेट तकनीकी संस्‍थानों में प्रोफेशनल कोर्स करने वाले दलित छात्रों को इंटरमीडिएट में कम से कम 60 प्रतिशत अंक लाना अनिवार्य होगा तभी वे छात्रवृत्‍ति व शुल्क प्रतिपूर्ति ले सकेंगे। इंटरमीडिएट में 60 प्रतिशत से कम अंक पर निजी क्षेत्र के कॉलेजों में प्रवेश लेने पर कोई छात्रवृत्ति या फीस प्रतिपूर्ति नहीं मिलेगी। ये आदेश ऐसे मान्यता प्राप्त प्रोफेशनल कोर्स के लिए है जिनमें प्रवेश की न्यूनतम अर्हता 12वीं है हालांकि प्रोफेशनल कोर्स में बीए, बीकॉम, बीएससी और बीएससी-एजी छोड़ दिया गया है।
इस एक आदेश से योगी सरकार ने कई निशाने साधे हैं। एक तो इससे तकनीकी संस्‍थानों की शैक्षिक गुणवत्‍ता में सुधार आएगा, दूसरे इन्‍हीं संस्‍थानों द्वारा सरकारी अधिकारियों से मिलीभगत कर छात्रवृत्‍ति के नाम पर वृहद स्‍तर पर किये जा रहे घोटालों पर लगाम लगाई जा सकेगी। चूंकि अभीतक कम प्राप्‍तांक कोई बाधा नहीं थे इसलिए छात्रवृत्‍ति घोटाले के लिए फर्जी छात्रों की संख्‍या भी आसानी से बढ़ा ली जाती थी परंतु अब इसकी संभावना कम रहेगी।
दरअसल अभी तक एससी-एसटी छात्रों को छात्रवृत्‍ति और शुल्‍क प्रतिपूर्ति के नाम पर जो धन केंद्र सरकार राज्‍य सरकारों को मुहैया कराती आई है, उसे भ्रष्‍ट अधिकारियों और तकनीकी संस्‍थानों के प्रबंध तंत्रों द्वारा बिना किसी बाधा के हजम कर लिया जाता रहा और इसीलिए तकनीकी संस्‍थान खोलना फायदे का सौदा बन गया। हकीकत तो ये है कि लगभग हर प्रदेश में छात्रवृत्‍ति घोटाला हो रहा है और कई प्रदेश सरकारें इससे जूझ भी रही हैं, कुछ कड़े कदम भी उठाए हैं परंतु घोटालेबाजों की तू डाल डाल मैं पात पात वाली गति ना तो जरूरतमंदों को मदद लेने दे रही है और ना ही मेधा को आगे आने दे रही है।
अभी तक होता ये आया है कि प्राप्‍तांकों की शर्त ना होने के कारण एससीएसटी वर्ग के अधिकाधिक छात्रों की एडमीशन लिस्‍ट सरकारों के पास भेजकर भारी छात्रवृत्‍ति का जुगाड़ किया जाता रहा। काउंसलिंग के लिए आए छात्रों से शैक्षिक प्रमाणपत्रों के साथ उनके आधार कार्ड की कॉपी भी जमा करा ली जाती थी। चूंकि तकनीकी प्रवेश परीक्षा में पास हुए सभी छात्र काउंसलिंग के लिए तो कई संस्थानों में जाते हैं परंतु एडमीशन किसी एक में ही लेते हैं। ऐसे में छात्र के एडमीशन न लेने पर भी संस्‍थान छात्र के ”आधार कार्ड की कॉपी” का इस्‍तेमाल समाज कल्‍याण विभाग की मिलीभगत से उस छात्र के नाम पर छात्रवृत्‍ति व शुल्‍क प्रतिपूर्ति हासिल करने के लिए करता रहता और हद तो ये कि ये प्रक्रिया सालोंसाल ”उस छात्र” के नाम पर लगातार चलती रही जिसने सिर्फ काउंसलिंग में हिस्‍सा लिया, एडमीशन नहीं। पूरा का पूरा एक कॉकस इसी तरह काम करता रहा।
बहरहाल अब यूपी सरकार के इस फैसले से प्रदेश के निजी क्षेत्र के कॉलेजों में 70 से 80 फीसदी दलित छात्र, छात्रवृत्ति एवं फीस प्रतिपूर्ति के दायरे से बाहर हो जाएंगे और संस्‍थान इस 80 फीसदी की बदौलत जो ” कमा रहे” थे वह बंद हो जाएगा। इसीलिए उत्तर प्रदेश के अनुसचिव सतीश कुमार का उक्त आदेश पहुंचते ही निजी कॉलेजों में हड़कंप मच गया है।
चूंकि यह आदेश पूरी तरह से एससी-एसटी के लिए है इसलिए पर्याप्‍त राजनीति करने का एक और मुद्दा विपक्ष को मिल गया है और वो राजनीति करेंगे भी, बिना ये सोचे समझे कि इससे प्रदेश के होशियार एससीएसटी छात्रों को भी अब ”रिजर्वेशन से आया है” का दंश नहीं झेलना पड़ेगा। एक बात और कि इस आदेश के बाद घोटालेबाजों की ”ताकतवर लॉबी” इसे निरस्‍त कराने को एड़ी चोटी का जोर लगा देगी परंतु सरकार यदि अपने इस आदेश को मनवा पाई तो नकल माफिया पर नकेल की तरह यह भी शिक्षा और खासकर उत्‍तरप्रदेश की मेधाशक्‍ति के लिए अहम कदम माना जाएगा।

बुधवार, 25 सितंबर 2019

Sonakshi: दोनों रहिमन एक से, जों लों बोलत नाहिं

दोनों रहिमन एक से, जों लों बोलत नाहिं,
जान परत है काक प‍िक र‍ितु बसंत के मांह‍ि…
रहीम दास जी का ये दोहा Sonakshi Sinha पर एकदम फ‍िट बैठता है। उसने बता द‍िया क‍ि अच्छी शक्लोसूरत , पैसा और रसूख, बुद्ध‍िमत्ता की बानगी नहीं हुआ करते इसील‍िए मामूली से सवाल पर सारी द‍िमागी असल‍ियत सामने आ सकती है। रहीम दास जी ने ऐसे ही लोगों के ल‍िए संभवत: ये दोहा रचा होगा, कौआ और कोयल तो मात्र उदाहरण के बतौर बताए थे ।
ह‍िंंदीबेल्ट की राजनीत‍ि करने वाले प‍िता शत्रुघ्न स‍िन्हा की बेटी और ह‍िंंदूघर में जन्मने वाली  बॉलीवुड अभ‍िनेत्री Sonakshi Sinha द्वारा जब केबीसी में पूछे गए प्रश्‍न ” हनुमान क‍िसके ल‍िए संजीवनी लाए थे” का जवाब नहीं द‍िया जा सका और वो बगलें झांकने लगीं, फिर लाइफलाइन भी ले डाली तो मीड‍िया ने तो उनके इस ”ज्ञान” को लेकर ख‍िंचाई की, उसके फॉलोवर्स ने भी अपना माथा ठोंक ल‍िया। सोनाक्षी के इस ” ज्ञान ” ने उसकी परवर‍िश, उसके पर‍िवार और उन मूल्यों का सच भी उगल द‍िया जो गाहे-बगाहे उसके प‍िता हांकते रहते हैं। 
इस सबके बाद हद तो तब हो गई जब सोनाक्षी स‍िन्हा ने आलोचना करने वालों से उल्टे यह कहा क‍ि मुझे तो पाइथागोरस प्रमेय, मर्चेंट ऑफ वेन‍िस , पीर‍ियोड‍िक टेबल , मुगल साम्राज्य और ना जाने क्या क्या याद नहीं तो क्या हुआ।
मतलब साफ है क‍ि सोनाक्षी को ये बात बेहद मामूली लगी और इससे ज्यादा की अपेक्षा उनसे नहीं की जानी चाह‍िए वरना मुंह खोलते ही वे अपने और ”ज्ञान” से हमारे द‍िमागों को प्रदूष‍ित ही करेंगी, हम कम से कम उससे तो बच जायेंगे। ”अल्पज्ञानी” और ”धृष्ट” व्यक्त‍ि से तो कोई भी बहस बेमानी होती है, वो रहम का पात्र होता है। अत: सोनाक्षी पर बस रहम ही क‍िया जा सकता है क‍ि राम कथा के पात्रों को लेकर इतना अल्पज्ञान, वह भी तब जबक‍ि उनके घर का नाम ही रामायण है… पिता का नाम शत्रुघ्न और भाइयों का नाम लव और कुश है।
सोनाक्षी के बहाने ही सही, हमने तस्वीर का वो रुख भी देख ल‍िया जो सही परवर‍िश के मायने खोजने को बाध्य कर रहा है। इस संदर्भ में प्रस‍ि‍द्ध गाय‍िका माल‍िनी अवस्थी का कहना सही है क‍ि अब वक्त है क‍ि हम थोड़ा ठहरें, ये सोचें क‍ि अब कितने परिवारों में बच्चों को हमारे पूर्वजों की कथाएँ सुनाई जाती हैं? यूं भी राम व कृष्ण की कथाएँ कहना सुनना जिस शिक्षित समाज में आज भी पुरातनपंथी होने का द्योतक हो, वहां सोनाक्षी सिन्हा जैसा उत्तर ही मिलेगा। अपने धर्म प्रतीकों संस्कृति के प्रति उपहास /उदासीनता में पली पीढ़ी का यह कटु सत्य है। तो फ‍िर सोनाक्षी के जवाब पर हो हल्ला क्यों।
जब अपने बच्चों में संस्कारों का रास्ता हमने ही बदला है तो फिर इस पीढ़ी द्वारा आराध्य राम की और इनकी लीला भुला देने वाली पीढ़ी से कैसी शिकायत? कथ‍ित प्रगत‍िवाद के नाम पर स्कूलों के सिलेबस से जानबूझकर राम और कृष्ण की कथायें हटाई गईं, चाणक्य कौन थे, इस पीढ़ी के 70 प्रत‍िशत बच्चों को नहीं पता , फ‍िर स्वामी व‍िवेकानंद , रामकृष्ण परमहंस, आद‍ि शंकराचार्य की बात ही छोड़ दीज‍िए… परंतु इस पर हमने कभी बहस की ? कभी नहीं ।
हम डरते रहे क‍ि यद‍ि अपने बच्चों को धर्म, संस्कृत‍ि, परंपरा और उनमें समाह‍ित शिक्षाओं, उनके वैज्ञान‍िक पक्षों पर बात करेंगे तो हमें प‍िछड़ा बता द‍िया जाएगा। इस डर ने ही हमारे आसपास ना जाने क‍ितने सोनाक्षी-संस्करण खड़े कर द‍िए।
हर बुराई के पीछे अच्छाई छ‍िपी होती है, इस एक वाक्य से हमें संकट में भी सकारात्मक सोचने की सलाह दी गई ताक‍ि हम बुराई से न‍िकले सबक को लेकर सचेत हो जायें और ये सोचें क‍ि आख‍िर ये स्थ‍ित‍ि आई ही क्यों। अब वक्त ट्रोल करने से पहले स्वयं से पूछने का है क‍ि हमारी परवर‍िश की द‍िशा कौन सी है।
- अलकनंदा स‍िंंह 

शनिवार, 21 सितंबर 2019

उच्च श‍िक्षा के गुरुओं की रिफ्रेशर कोर्स ‘अर्पित’ ने खोली पोल

उच्‍च शिक्षण संस्‍थानों में शिक्षा की हकीकत बताने पर एक रिपोर्ट आई है। मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा उच्‍च शिक्षण संस्‍थानों में कार्यरत शिक्षकों के लिए पिछले वर्ष एक रिफ्रेशर कोर्स ज्‍वॉइन करने हेतु जो परीक्षा आयोजित की गई थी, उसमें 40 प्रतिशत शिक्षक फेल हो गए।
दरअसल मानव संसाधन मंत्रालय ने उच्‍च शिक्षण संस्‍थानों की गुणवत्‍ता व यहां के शिक्षकों के ज्ञान को परखने को एक ऑनलाइन रिफ्रेशर कोर्स ‘ARPIT‘ (ऐनुअल रिफ्रेशर प्रोग्राम इन टीचिंग) जारी किया। इसमें शामिल होने के लिए एक शुरुआती टेस्‍ट होना था। अकर्मण्‍यता का इससे बड़ा नमूना और क्‍या हो सकता है कि इस रिफ्रेशर कोर्स ‘अर्पित’ को लेकर उच्‍च शिक्षण संस्‍थानों में पढ़ा रहे लगभग 15 लाख शिक्षकों में से सिर्फ 51000 शिक्षकों ने ही रजिस्‍ट्रेशन कराया और उनमें से भी सिर्फ 6,411 शिक्षक ही शामिल हुए जिसमें से भी 40 प्रतिशत शिक्षक फेल हो गए।
यूं इस कोर्स को करना अनिवार्य नहीं था परंतु इसे पदोन्‍नति से जोड़ा गया था, बावजूद इसके इतनी बड़ी संख्‍या में शिक्षकों का ‘रिफ्रेशर कोर्स टेस्‍ट’ में फेल होना ये बताता है कि उच्‍च शिक्षा में बदहाली और शिक्षकों की जो ‘दयनीय’ दशा है, वह दरअसल इकतरफा है, जानबूझकर प्लान्ट की गई है । इस इकतरफा ‘स्‍थापित की गई तस्‍वीर’ में कहीं भी ना तो शिक्षकों की अकर्मण्‍यता का जि़क्र आता है और न ही शैक्षिक माफियागिरी का। निश्‍चित जानिए ना तो इन फेल हुए 40 प्रतिशत का उल्‍लेख होगा और ना ही उन 14 लाख 40 हजार का जिन्‍होंने परीक्षा केलिए रजिस्‍ट्रेशन ही नहीं कराया।
बहरहाल शिक्षक संघों द्वारा हमारे सामने बनाई गई तस्‍वीर में शिक्षकों को सदैव बेचारा बताकर सरकारों को कठघरे में खड़ा किया जाता रहा है जबकि तस्‍वीर का दूसरा रुख जो आज हमारे सामने 40 % के रूप में आया, वह उच्‍च शिक्षा के इन कमजोर कंधों की हकीकत बयान करता है। वह यह भी बताता है कि देश के करदाताओं का पैसा इन जैसे ना जाने कितने अकर्मण्‍यों पर बरबाद किया जा रहा है। कम तनख्‍वाह, अतिरिक्‍त कार्य के अलावा बात बात पर जिंदाबाद मुर्दाबाद करते शिक्षक संघों, यूनीवर्सिटी यूनियनों के जरिए संस्‍थानों पर हावी रहने की निकम्‍मी-प्रवृत्‍ति ने शिक्षण कार्य की गुणवत्‍ता को तो प्रभावित किया ही है, साथ ही उन्‍हें परजीवी की भांति गैरजिम्‍मेदार भी बना दिया और नतीजा हमारे-आपके सबके सामने है कि हम अपने बच्‍चों के भविष्‍य को आखिर किसके हाथों सौंपते चले आ रहे हैं।
नियम तो ये होना चाहिए कि जो देश के भविष्‍य का निर्माण करने को नियुक्‍त ऐसे सभी लोग अपनी योग्‍यता समय-समय पर सिद्ध करने को बाध्‍य हों क्‍योंकि तभी उच्‍च शिक्षा में आगे बढ़ा जा सकता वरना अभी तक तो हम सरकार पर शिक्षाबजट कम होने का आरोप लगाकर कबूतर की भांति असल समस्‍या को देखकर आंखें ही बंद करते आए हैं।

सोमवार, 9 सितंबर 2019

वेदों का मजाक उड़ाने वालों को जवाब है प्रो. पेनरोज, Dr. Hammeroff का शोध

जो व्‍यक्‍ति अथवा समाज अपने अतीत को विस्‍मृत कर देता है वह अपने वर्तमान का ध्‍वंस तो करता ही है, भविष्‍य का भी अपराधी होता है। हम वेदों द्वारा सौंपे गए ज्ञान को भुलाकर यही अपराध लगातार करते रहे परंतु अब ये तस्‍वीर उलट रही है और इस पर गर्व करने की बारी हमारी है, वह भी प्रमाणों के साथ। अब भौतिकी के क्वाटंम सिद्धांत पर आधारित शोधों के बाद वैज्ञानिक ये सिद्ध करने में सफल हुए हैं कि आत्‍मा अजर व अमर है।
आधुनिक विज्ञान की आधारशिला बने ब्रह्मांडीय अध्‍ययन के साथ साथ शरीर विज्ञान के अध्‍ययन ये बताने को काफी हैं कि जो कुछ हमारे ऋषि-मुनि अपने ज्ञान से बताकर गए वह न केवल सत्‍य है बल्‍कि प्रमाणिक भी था और सदैव रहेगा।
हाल ही में ऑक्‍सफोर्ड यूनीवर्सिटी के गणित व भौतिक विज्ञान के प्रोफेसर सर रोगर पेनरोज तथा यूनीवर्सिटी ऑफ एरीजाना के भौतिक वैज्ञानिक Dr. Stuart Hameroff ने 20 साल तक किए अनेक शोधों के बाद निष्‍कर्ष निकाला कि आत्‍मा अजर अमर है। इस बारे में इन्‍होंने कुल 6 शोधपत्र प्रकाशित किए हैं और इसपर अमेरिकी साइंस चैनल में डॉक्‍युमेंटरी भी जल्‍द ही दिखाई जाएगी।
शोधकर्ता प्रोफेसर सर रोगर पेनरोज तथा डा. स्‍टुअर्ट Hammeroff का कहना है कि मानव मस्तिष्क एक जैविक कंप्यूटर की भांति है। इस जैविक कंप्यूटर का प्रोग्राम चेतना या आत्मा है जो मस्तिष्क के अंदर मौजूद एक क्वांटम कंप्यूटर के जरिये संचालित होती है। क्वांटम कंप्यूटर से तात्पर्य मस्तिष्क की कोशिकाओं में स्थित सूक्ष्म नलिकाओं से है जो प्रोटीन आधारित अणुओं से निर्मित हैं। बड़ी संख्या में ऊर्जा के ये सूक्ष्म स्रोत अणु मिलकर एक क्वाटंम स्टेट तैयार करते हैं जो वास्तव में चेतना या आत्मा है।
वैज्ञानिकों के अनुसार, जब व्यक्ति दिमागी रूप से मृत होने लगता है तब ये सूक्ष्म नलिकाएं क्वांटम स्टेट खोने लगती हैं। सूक्ष्म ऊर्जा कण मस्तिष्क की नलिकाओं से निकल ब्रह्मांड में चले जाते हैं। कभी मरता इंसान जिंदा हो उठता है, तब ये कण वापस सूक्ष्म नलिकाओं में लौट जाते हैं। आत्मा चेतन दिमाग की कोशिकाओं में प्रोटीन से बनी नलिकाओं में ऊर्जा के सूक्ष्म स्रोत अणुओं एवं उपअणुओं के रूप में रहती है। सूचनाएं इन्हीं सूक्ष्म कणों में संग्रहित रहती हैं।
शोध के अनुसार सूक्ष्म ऊर्जा कणों के ब्रह्मांड में जाने के बावजूद उनमें निहित सूचनाएं नष्ट नहीं होती। क्वाटंम सिद्धांत प्रतिपादित करने वाले वैज्ञानिक मैक्स प्लंक के नाम पर म्यूनिख में प्लंक इंस्टीट्यूट है, वहां के वैज्ञानिक हेंस पीटर टुर ने भी इसकी पुष्टि की है।
भारतीय वैदिक ज्ञान परंपरा पर सवाल उठाने वालों और इसे पोंगापंथी बताने वालों के लिए भौतिकी के क्वाटंम सिद्धांत पर आधारित यह शोध एक सबक है क्‍योंकि वाे भारतीय ज्ञान परंपरा में हुए ब्रह्मांडीय प्रयोगों को कमतर आंकते रहे और हर तथ्‍य को पोंगापंथ कहकर परे धकेलते रहे। वेदों के ज्ञान से भरे हुए हमारे अतीत को आज फिर से उसी प्रतिष्‍ठा के लिए याद करने का समय है।
जैसे कि पुरुषसूक्‍त, ऋग्वेद. 10.90.2 में कहा गया है-
पुरुष एव इदं सर्वं यद् भूतं यच्च भव्यम्।
उतामृतत्वस्य ईशानो यद् अन्नेन अतिरोहति।।
अर्थात्
इस सृष्टि में जो कुछ भी इस समय विद्यमान है, जो अब तक हो चुका है और आगे जो भविष्य में होगा, वह सब पुरुष (परमात्मा) ही है। वह पुरुष उस अमरत्व का भी स्वामी है, जो इस दृश्यमान भौतिक जगत के ऊपर है।
आज का विज्ञान भी मानता है कि इस दृश्यमान जगत के अंदर की सच्चाई इसके ऊपर से दिखने वाले रूप से सर्वथा भिन्न है। ऋग्‍वेद का संदेश आत्‍मा निरंतरता व अमरता को समझने के लिए काफी था जिसे अब प्रोफेसर सर रोगर पेनरोज व डा. स्‍टुअर्ट हैमरॉफ द्वारा क्‍वांटम कंप्‍यूटिंग व मैकेनिज्‍म से प्रमाणित किया जा रहा है।
– अलकनंंदा सिंह

गुरुवार, 5 सितंबर 2019

शिक्षक दिवस: ‘नौकरी की सोच’ से आगे की बात

The point beyond 'job thinking'
यूं तो आज शिक्षक दिवस है और शिक्षा व शिक्षकों को लेकर कसीदे पढ़े जायेंगे, उनकी समस्यायें गिनाईं जाएंगी, सरकारों से उनके लिए क्‍या करें क्‍या ना करें, आदि आदि समाधान बताए जाऐंगे, जो स्‍वयं कुछ नहीं कर सके वे दूसरों को उपदेश देंगे कि शिक्षक दिवस पर ये करें, वो ना करें… आदि आदि। निश्‍चित जानिए कि आज का दिन शिक्षकों की ”बेचारगी” का रोना रोने में जाएगा। गुरुकुल की महान परंपरा वाले देश में इस तरह का रुदाली-रुदन अच्‍छा नहीं, ये तो शिक्षकों का डिमॉरलेजाइशन ही हुआ ना।
बहरहाल मैं अपनी बात यहीं से शुरू करती हूं कि आखिर क्‍यों ‘गुरू को पूजने वाले हम’ स्‍वयं का विक्‍टिमाइजेशन करने के आदी होते गए, गरीब और गरीबी को कथित रूप से महिमामंडित करते रहे। इस बेचारगी के रोने में कब स्‍वाभिमान तिल तिल कर समाप्‍त होता गया, पता ही नहीं चला।
शिक्षकों को लेकर हम इतना रोए कि ये विक्‍टिमाइजेशन की प्रवृत्‍ति रग रग में समाती चली गई, नतीजा यह रहा कि पूरे समाज को शिक्षित करने वाला शिक्षक ही अपने स्‍वाभिमान और कर्तव्‍य को ‘नौकरी’ के लबादे में लपेटकर स्‍वयं को हद दर्जे तक लगातार गिराता गया। स्‍तर यहां तक गिरा कि नौकरी के लिए शिक्षक हिंसक विरोध प्रदर्शनों पर उतर आए।
अकर्मण्‍यता, राजनीति, विरोध-प्रदर्शनों का पर्याय क्‍यों होते गए शिक्षक। शिक्षा देने वाले ही जब हिंसा पर उतारू हो जाऐंगे तो शिक्षा देगा कौन और कैसी होगी वह शिक्षा, आज के दिन ये भी सोचना जरूरी है। शिक्षादान को नौकरी में समेटकर हमने जो भूल कीं, अब उसे सुधारने का समय आ गया है।
सम्‍मान पाने के लिए सम्‍मान देना भी जरूरी है, और जो अपने कर्म को ही सम्‍मान नहीं दे सकता वह सम्‍मान पाने का अधिकार खो देता है। ये सम्‍मान किसी सरकार या संस्‍था से लिए जाने वाला सम्‍मान नहीं, बल्‍कि अपनी ही नज़रों में अपने सम्‍मान की बात है। तभी तो उन्‍हें ही श्रेष्‍ठ शिक्षक कहा जाता है जो नि:स्‍वार्थ शिक्षा देने में यकीं रखते हैं। संपन्‍नता नहीं, सुख खोजेंगे…अधिकार से पहले कर्तव्‍य को अंजाम देंगे तो ही समझ आएगा कि शिक्षक दिवस पर अब शिक्षकों को अपनी यात्रा का रुख किस ओर करना चाहिए।

शुक्रवार, 30 अगस्त 2019

Fit india Movement : दश्‍त को देखकर घर याद आया...

कल Fit india Movement का आग़ाज करते हुए जब पीएम नरेंद्र मोदी ने याद दिलाया कि हम ‘त’ से तलवार (तीव्रता, चपलता) पढ़ते-पढ़ते कब ‘त’ से तरबूज (आलस्‍य और अतिभोजनी) होते गए, इसका पता ही तब चला जब सिर्फ 10 प्रतिशत लोग ही फिट निकले।
ऐसे में गालिब का शेर याद आया कि
"कोई वीरानी सी वीरानी है, दश्‍त को देखकर घर याद आया…" 
यानि जब चारों तरफ जंगल दिखता है तो घर याद आता है। ये शेर बड़ा सटीक बैठता है कि किस तरह हम ही अपनी जड़ों से स्‍वयं को काटते गए और बीमारों का एक पूरा देश खड़ा कर लिया।
चौतरफा बीमारों का एक बड़ा सा जंगल हमें 24 घंटे अपने आसपास नजर आता है, जो ये मनन करने पर बाध्‍य करता है कि क्‍या हम उन्‍हीं पूर्वजों की संतानें हैं जिन्‍होंने कभी एक पूरा का पूरा आयुर्वेद सिर्फ सेहत पर ही लिख दिया…जिन्‍होंने निरोगी काया को पहला सुख बताया…जिन्‍होंने आलस्‍य के लिए सूत्रवाक्‍य बना दिया कि ‘आलसस्‍य कुतो विद्या’…जिन्‍होंने योग को जीवन का मूलाधार बनाया…परंतु आज जब हम तकनीकी युग में जी रहे हैं तब पूर्वजों के इन्‍हीं भुलाए जा चुके ज्ञान की बेहद आवश्‍यकता है।
हम सुविधाओं के जंगल में अपने सुख का दश्‍त ढूढ़ रहे हैं कि कहीं तो अच्‍छी सेहत हासिल हो, कहीं तो शांति मिले, इसे हासिल करने के लिए ना जाने कितनी यात्राएं, कितने मंदिर और कितने हॉस्‍पीटल्‍स के चक्‍कर काटते रहते हैं कि सब ठीक हो जाए, परंतु इन सभी समस्‍याओं के मूल की ओर नहीं देखते। हम नहीं सोचते कि अपने पूर्वजों के ज्ञान की ओर जाकर हमारी ज़रा सी कोशिश इनमें से कई समस्‍याओं का न केवल निवारण करेगी बल्‍कि भविष्‍य भी सुरक्षित करेगी।
आज के हालात ये हैं कि तकनीक, आलस्‍य व दिखावे के कारण हमने अपना शरीर स्‍वयं पंगु बना दिया है, घरों में अपना काम स्‍वयं करना बंद कर दिया, सफाई से लेकर रसोई और अब तो बच्‍चों का पालन पोषण भी मेड के भरोसे कर दिया। एप के जरिए मोबाइल पर अपने कदमों की गिनती कर रहे हैं। सोशल मीडिया पर अपलोड करते हैं कि आज इतने स्‍टेप्‍स चले। भरपूर और फास्‍ट फूड खाते हुए डायटिंग पर चर्चा क्‍या अपने ही साथ मजाक नहीं है। 10 मिनट चलकर ये सोचना कि यह 24 घंटे के लिए पर्याप्‍त है, निरा भ्रम है। ऐसा करके आखिर हम किसे धोखा दे रहे हैं। यह तो हमें ही सोचना होगा ना।
बहरहाल वृद्धाश्रमों, अस्‍पतालों की बढ़ती संख्‍या हो या मानसिक विकारों से उत्‍पन्‍न अपराधों में बाढ़, सभी की जड़ में बिगड़ती सेहत है। इसमें दूसरों (बीमारों व बूढ़ों) पर रहम करने की बजाय हम स्‍वयं पर रहम करें कि इन स्‍थितियों से हमें दो चार ना होना पड़े।
चलिए आप भी अपनी सेहत के लिए कुछ संकल्‍प साधिए और आखिर में इक़बाल साजिद का एक शेर-
प्यासे रहो न दश्त में बारिश के मुंतज़िर
मारो ज़मीं पे पाँव कि पानी निकल पड़े।
-अलकनंदा सिंह

गुरुवार, 22 अगस्त 2019

हरिशंकर परसाई का व्यंग्य: एक मध्यमवर्गीय कुत्ता

हिंदी के प्रसिद्ध लेखक और व्यंगकार हरिशंकर परसाई का जन्‍म 22 अगस्त 1924 को हुआ था। उनका होशंगाबाद (मध्य प्रदेश) जिले के जमानी गांव में हुआ था। वे हिंदी के पहले रचनाकार हैं जिन्होंने व्यंग्य को विधा का दर्जा दिलाया और उसे हल्के–फुल्के मनोरंजन की परंपरागत परिधि से उबारकर समाज के व्यापक प्रश्नों से जोड़ा। उनकी व्यंग्य रचनाएँ हमारे मन में गुदगुदी ही पैदा नहीं करतीं बल्कि हमें उन सामाजिक वास्तविकताओं के आमने–सामने खड़ा करती है, जिनसे किसी भी व्यक्ति का अलग रह पाना लगभग असंभव है। लगातार खोखली होती जा रही हमारी सामाजिक और राजनैतिक व्यवस्था में पिसते मध्यमवर्गीय मन की सच्चाइयों को उन्होंने बहुत ही निकटता से पकड़ा है। उन्होंने सदैव विवेक और विज्ञान–सम्मत दृष्टि को सकारात्मक रूप में प्रस्तुत किया है। उनकी भाषा–शैली में खास किस्म का अपनापन है जिससे पाठक यह महसूस करता है कि लेखक उसके सामने ही बैठा है।
हरिशंकर परसाई का व्यंग्य: एक मध्यमवर्गीय कुत्ता
मेरे मित्र की कार बँगले में घुसी तो उतरते हुए मैंने पूछा, ‘इनके यहाँ कुत्ता तो नहीं है?’ मित्र ने कहा, ‘तुम कुत्ते से बहुत डरते हो!’ मैंने कहा, ‘आदमी की शक्ल में कुत्ते से नहीं डरता। उनसे निपट लेता हूँ। पर सच्चे कुत्ते से बहुत डरता हूँ।’
कुत्तेवाले घर मुझे अच्छे नहीं लगते। वहाँ जाओ तो मेजबान के पहले कुत्ता भौंककर स्वागत करता है। अपने स्नेही से ‘नमस्ते’ हुई ही नहीं कि कुत्ते ने गाली दे दी – ‘क्यों यहाँ आया बे? तेरे बाप का घर है? भाग यहाँ से!’
फिर कुत्ते का काटने का डर नहीं लगता – चार बार काट ले। डर लगता है उन चौदह बड़े इंजेक्शनों का जो डॉक्टर पेट में घुसेड़ता है। यूँ कुछ आदमी कुत्ते से अधिक जहरीले होते हैं। एक परिचित को कुत्ते ने काट लिया था। मैंने कहा, ‘इन्हें कुछ नहीं होगा। हालचाल उस कुत्ते का पूछो और इंजेक्शन उसे लगाओ।’
एक नए परिचित ने मुझे घर पर चाय के लिए बुलाया। मैं उनके बँगले पर पहुँचा तो फाटक पर तख्ती टँगी दीखी – ‘कुत्ते से सावधान!’ मैं फौरन लौट गया।
कुछ दिनों बाद वे मिले तो शिकायत की, ‘आप उस दिन चाय पीने नहीं आए।’ मैंने कहा, ‘माफ करें। मैं बँगले तक गया था। वहाँ तख्ती लटकी थी – ‘कुत्ते से सावधान। ‘मेरा ख्याल था, उस बँगले में आदमी रहते हैं। पर नेमप्लेट कुत्ते की टँगी हुई दीखी।’ यूँ कोई-कोई आदमी कुत्ते से बदतर होता है। मार्क ट्वेन ने लिखा है – ‘यदि आप भूखे मरते कुत्ते को रोटी खिला दें, तो वह आपको नहीं काटेगा।’ कुत्ते में और आदमी में यही मूल अंतर है।
बँगले में हमारे स्नेही थे। हमें वहाँ तीन दिन ठहरना था। मेरे मित्र ने घंटी बजाई तो जाली के अंदर से वही ‘भौं-भौं’ की आवाज आई। मैं दो कदम पीछे हट गया। हमारे मेजबान आए। कुत्ते को डाँटा – ‘टाइगर, टाइगर!’ उनका मतलब था – ‘शेर, ये लोग कोई चोर-डाकू नहीं हैं। तू इतना वफादार मत बन।’
कुत्ता ज़ंजीर से बँधा था। उसने देख भी लिया था कि हमें उसके मालिक खुद भीतर ले जा रहे हैं पर वह भौंके जा रहा था। मैं उससे काफी दूर से लगभग दौड़ता हुआ भीतर गया। मैं समझा, यह उच्चवर्गीय कुत्ता है। लगता ऐसा ही है। मैं उच्चवर्गीय का बड़ा अदब करता हूँ। चाहे वह कुत्ता ही क्यों न हो। उस बँगले में मेरी अजब स्थिति थी। मैं हीनभावना से ग्रस्त था – इसी अहाते में एक उच्चवर्गीय कुत्ता और इसी में मैं! वह मुझे हिकारत की नजर से देखता।
शाम को हम लोग लॉन में बैठे थे। नौकर कुत्ते को अहाते में घुमा रहा था। मैंने देखा, फाटक पर आकर दो ‘सड़किया’ आवारा कुत्ते खड़े हो गए। वे सर्वहारा कुत्ते थे। वे इस कुत्ते को बड़े गौर से देखते। फिर यहाँ-वहाँ घूमकर लौट आते और इस कुत्ते को देखते रहते। पर यह बँगलेवाला उन पर भौंकता था। वे सहम जाते और यहाँ-वहाँ हो जाते। पर फिर आकर इस कु्ते को देखने लगते। मेजबान ने कहा, ‘यह हमेशा का सिलसिला है। जब भी यह अपना कुत्ता बाहर आता है, वे दोनों कुत्ते इसे देखते रहते हैं।’
मैंने कहा, ‘पर इसे उन पर भौंकना नहीं चाहिए। यह पट्टे और जंजीरवाला है। सुविधाभोगी है। वे कुत्ते भुखमरे और आवारा हैं। इसकी और उनकी बराबरी नहीं है। फिर यह क्यों चुनौती देता है!’
रात को हम बाहर ही सोए। जंजीर से बँधा कुत्ता भी पास ही अपने तखत पर सो रहा था। अब हुआ यह कि आसपास जब भी वे कुत्ते भौंकते, यह कुत्ता भी भौंकता। आखिर यह उनके साथ क्यों भौंकता है? यह तो उन पर भौंकता है। जब वे मोहल्ले में भौंकते हैं तो यह भी उनकी आवाज में आवाज मिलाने लगता है, जैसे उन्हें आश्वासन देता हो कि मैं यहाँ हूँ, तुम्हारे साथ हूँ।
मुझे इसके वर्ग पर शक होने लगा है। यह उच्चवर्गीय कुत्ता नहीं है। मेरे पड़ोस में ही एक साहब के पास थे दो कुत्ते। उनका रोब ही निराला! मैंने उन्हें कभी भौंकते नहीं सुना। आसपास के कुत्ते भौंकते रहते, पर वे ध्यान नहीं देते थे। लोग निकलते, पर वे झपटते भी नहीं थे। कभी मैंने उनकी एक धीमी गुर्राहट ही सुनी होगी। वे बैठे रहते या घूमते रहते। फाटक खुला होता, तो भी वे बाहर नहीं निकलते थे. बड़े रोबीले, अहंकारी और आत्मतुष्ट।
यह कुत्ता उन सर्वहारा कुत्तों पर भौंकता भी है और उनकी आवाज में आवाज भी मिलाता है। कहता है- ‘मैं तुममें शामिल हूँ। ‘उच्चवर्गीय झूठा रोब भी और संकट के आभास पर सर्वहारा के साथ भी- यह चरित्र है इस कुत्ते का। यह मध्यवर्गीय चरित्र है। यह मध्यवर्गीय कुत्ता है। उच्चवर्गीय होने का ढोंग भी करता है और सर्वहारा के साथ मिलकर भौंकता भी है। तीसरे दिन रात को हम लौटे तो देखा, कुत्ता त्रस्त पड़ा है। हमारी आहट पर वह भौंका नहीं,
थोड़ा-सा मरी आवाज में गुर्राया। आसपास वे आवारा कुत्ते भौंक रहे थे, पर यह उनके साथ भौंका नहीं। थोड़ा गुर्राया और फिर निढाल पड़ गया। मैंने मेजबान से कहा, ‘आज तुम्हारा कुत्ता बहुत शांत है।’
मेजबान ने बताया, ‘आज यह बुरी हालत में है। हुआ यह कि नौकर की गफलत के कारण यह फाटक से बाहर निकल गया। वे दोनों कुत्ते तो घात में थे ही। दोनों ने इसे घेर लिया। इसे रगेदा। दोनों इस पर चढ़ बैठे। इसे काटा। हालत खराब हो गई। नौकर इसे बचाकर लाया। तभी से यह सुस्त पड़ा है और घाव सहला रहा है। डॉक्टर श्रीवास्तव से कल इसे इंजेक्शन दिलाउँगा।’
मैंने कुत्ते की तरफ देखा। दीन भाव से पड़ा था। मैंने अंदाज लगाया। हुआ यों होगा –
यह अकड़ से फाटक के बाहर निकला होगा। उन कुत्तों पर भौंका होगा। उन कुत्तों ने कहा होगा – ‘अबे, अपना वर्ग नहीं पहचानता। ढोंग रचता है। ये पट्टा और जंजीर लगाए है। मुफ्त का खाता है। लॉन पर टहलता है। हमें ठसक दिखाता है। पर रात को जब किसी आसन्न संकट पर हम भौंकते हैं, तो तू भी हमारे साथ हो जाता है। संकट में हमारे साथ है, मगर यों हम पर भौंकेगा। हममें से है तो निकल बाहर। छोड़ यह पट्टा और जंजीर। छोड़ यह आराम। घूरे पर पड़ा अन्न खा या चुराकर रोटी खा। धूल में लोट।’ यह फिर भौंका होगा। इस पर वे कुत्ते झपटे होंगे। यह कहकर – ‘अच्छा ढोंगी। दगाबाज, अभी तेरे झूठे दर्प का अहंकार नष्ट किए देते हैं।’
इसे रगेदा, पटका, काटा और धूल खिला।
कुत्ता चुपचाप पड़ा अपने सही वर्ग के बारे में चिंतन कर रहा है।

रविवार, 18 अगस्त 2019

कभी तो चौंक के देखे कोई हमारी तरफ, क‍िसी की आंख में हमको भी इंतज़ार द‍िखे ….Gulzar

कभी तो चौंक के देखे कोई हमारी तरफ, क‍िसी की आंख में हमको भी इंतज़ार द‍िखे …. जैसी अनग‍िनत रचनायें हमें देने वाले संपूर्ण सिंह कालरा यान‍ि गीतकार Gulzar का आज 86वां जन्मदिन है । फिल्म इडंस्ट्री को अपने नायाब नगमों से मदहोश करने वाले Gulzar साहब की नज्में, कविताएं, शेरो-शायरी आज भी लोगों को दीवाना बना देती हैं।
काग़ज़ पर भारी-भरकम ख़याल वाली एक के बाद एक नन्ही मुन्नी नज़्में जब अंदर उतरती हैं जीने की लम्बी और गहरी कहानी आहिस्ते- आहिस्ते उभरने लगती है और फिर कोसों लम्बा सफ़र तय कर डालने का ढाढस मिलता है। यह कह कर सुकृता पॉल ने गुलज़ार साहब को याद क‍िया है।
1968 में रिलीज हुई फिल्म ‘आशीर्वाद’ के लिए संवाद लिखना हो या फिर हॉलीवुड मूवी ‘स्लमडॉग मिलेनियर’ का गाना ‘जय हो’.. दशकों से अपने हुनर से लोगों का दिल जीत रहे मशहूर गीतकार, कवि, पटकथा लेखक, फिल्म निर्देशक और नाटककार गुलज़ार 18 अगस्त को अपना 84वां बर्थडे सेलिब्रेट कर रहे हैं। संपूर्ण सिंह कालरा उर्फ गुलज़ार का जन्म 1934 में हुआ था। फिल्म इंडस्ट्री में उन्होंने जो मुकाम हासिल किया है, उसके लिए उन्हें काफी संघर्ष भी करना पड़ा। वह मुंबई में मैकेनिक का काम करते थे, लेकिन उनके शौक ने ही उनकी जिंदगी बदल दी।
गुलज़ार अपने पिता माखन सिंह कालरा की दूसरी पत्नी सुजान कौर की इकलौती संतान हैं। जब वह छोटे थे, तभी उनकी मां का इंतकाल हो गया था। देश के विभाजन के वक्त उनका परिवार पंजाब के अमृतसर में आकर बस गया। इसके बाद गुलज़ार मुंबई आ गए।
मुंबई आकर गुलजार ने एक गैरेज में बतौर मैकेनिक काम करना शुरू कर दिया। पैसे कमाने के लिए उन्हें कड़ी मेहनत करनी पड़ी, लेकिन उन्हें बचपन से ही कविताएं लिखने का शौक था। अपने शौक के कारण ही उन्होंने मैकेनिक का काम छोड़ दिया और फिल्म इंडस्ट्री का रुख किया। गुलजार मशहूर फिल्म निर्देशक बिमल राय, ह्रषिकेश मुखर्जी और हेमंत कुमार के सहायक के रूप में काम करने लगे।
गुलज़ार ने एसडी बर्मन की फिल्म ‘बंदिनी’ से बतौर गीत लेखक अपने करियर की शुरुआत की। इसके बाद उन्होंने कई बेहतरीन गानों के बोल लिखे। उन्होंने बतौर निर्देशक भी हिंदी सिनेमा में योगदान दिया है। इसके अलावा उन्होंने दूरदर्शन पर आए शो ‘जंगल बुक’ का मशहूर गाना ‘जंगल जंगल बात चली है..’ भी लिखा था।
84 साल के गुलज़ार को 2004 में भारत के सर्वोच्च सम्मान पद्म भूषण से नवाजा जा चुका है। 2009 में उन्हें ‘स्लमडॉग मिलेनियर’ के गाने ‘जय हो’ के लिए सर्वश्रेष्ठ गीत का ऑस्कर अवॉर्ड मिला। इसी गाने के लिए उन्हें ग्रैमी अवॉर्ड से भी सम्मानित किया जा चुका है।

शुक्रवार, 9 अगस्त 2019

कुंठा परोस रहे clinics पर ये कार्यवाही काबिले-तारीफ है

सुरसा की तरह हमारे मूल्‍यों को निगल चुके बाजार का वश चले तो सभी को बीमार, बदसूरत, बेचारा व गरीब बना डाले। छोटे से पिज्‍जा के टुकड़े के लिए किसी लड़की या लड़के को ट्रैफिक रूल्‍स तोड़ते, यहां तक कि भूख के कारण लड़के से लड़की बने मॉडल को चॉकलेट खाते ही असली रूप में आते देख तो अतिशयोक्‍ति के सारे रिकॉर्ड टूट जाते हैं। लड़की जब खास क्रीम लगाती है तो गोरी होती है और जब गोरी होती है तो कॉन्‍फीडेंस और नौकरी में ऊंचे पद पर पहुंच जाती है।
रात दिन लोगों में उनके शरीर, रूप, रंग, खानपान व करियर को लेकर इतनी नकारात्‍मकता परोसते जाने का ही असर है कि आजकल किसी ना किसी तरह बच्‍चे, जवान, बूढ़े, शहर, ग्रामीण, पुरुष व महिलायें भारी कुंठा के शिकार हो रहे हैं।
ये जानते हुए भी कि ये विज्ञापन ”अपने-अपने झूठ ”सिर्फ और सिर्फ उत्‍पाद बेचने के लिए फैला रहे हैं, हम इनके उत्‍पादों के लिए अपने घरों को प्रयोगशाला और अपने शरीर को इनका ”गिनी पिग” बना चुके हैं, यानि लाइलाज बीमारियों को खुला आमंत्रण देते रहते हैं।
नकारात्‍मक और कमतर बताने का ये बाजारी फंडा एक और घिनौने रूप में तब हमारे सामने आता है जब हम शहर की ”हर दीवार” पर खानदानी शफाखानों (Sex clinics ) से जुड़े ”मर्दाना कमजोरी” के विज्ञापन देखते हैं।
मजे की बात ये है कि इन शफाखानों के डॉक्‍टर अजीब से निकनेम वाले होते हैं, गोया कि पूरा नाम लिखने से इनकी कोई ”कमजोरी” जाहिर हो जाएगी। आपत्‍तिजनक भाषाओं में लक्षणों का सरेआम प्रदर्शन ना जाने कितने पुरुषों (महिलाओं के लिए नहीं होते ये विज्ञापन) को कुंठित बनाता होगा। ऐसी कुंठायें कहां व किस रूप में निकलती होंगी, अंदाजा लगाना कोई मुश्‍किल काम नहीं। यौन अपराधों में बढ़ोत्‍तरी के पीछे अपराधी का कुंठित होना भी एक कारण अवश्‍य होता है।
इस सबके बीच अच्‍छी खबर ये है कि मथुरा-वृंदावन नगर निगम ने एक सराहनीय काम यह किया है कि अब शहर की दीवारों को Sex clinics के विज्ञापन से रंगने पर प्रतिबंध के साथ-साथ भारी-भरकम जुर्माना वसूलना शुरू कर दिया है ताकि शहर में ये फिर ना दिखाई पड़ें। स्‍थानीय सांसद हेमामालिनी द्वारा इन पर आपत्‍ति जताने के बाद शुरू हुआ अभियान धार्मिक शहर की छवि को तो सुधारेगा ही, साफ-सुथरे रूप में प्रस्‍तुत भी करेगा।
खानदानी शफाखानों पर ये कड़ाई श्रद्धालुओं अब पर्यटकों के बीच ना तो अश्‍लीलता का प्रचार कर पाएगी और ना ही धार्मिक शहर के छवि को खराब करेगी।
बहरहाल, बाजार ने नितांत व्‍यक्‍तिगत शारीरिक समस्‍याओं को कुंठाओं से भर देने वालों के खिलाफ एक शहर नहीं पूरे देश में कड़े कदम उठाए जाने चाहिए। स्‍वस्‍थ समाज बनाने के भाषणों से हटकर जमीनी कार्यवाही होनी चहिए जैसे कि मथुरा-वृंदावन नगर निगम ने की। कम से कम धार्मिक स्‍थानों पर बाजार के ऐसे कुचक्रों को नहीं चलने देना चाहिए क्‍योंकि यहां श्रद्धालु आध्‍यात्‍मिकता के लिए आते हैं ना कि कुंठा मोल लेने।
-अलकनंदा स‍िंंह 

रविवार, 4 अगस्त 2019

जब मेंड़ ही खेत को खाने लगे तो खेत का अस्‍तित्‍व बचेगा कैसे?

जब कर्तव्‍य पर सिर्फ और सिर्फ पैसा हावी होने लगे और ”सरकारी नौकरी” इस बात की गारंटी हो कि बिना कुछ किए धरे भी तनख्‍वाह आपको मिल ही जाएगी तो वही होता है जो आजकल उत्‍तर प्रदेश के कमोवेश सभी सरकारी स्‍कूलों में हो रहा है। यहां मौजूद 90 प्रतिशत शिक्षक, शिक्षा व्‍यवस्‍था को इसी प्रकार पलीता लगा रहे हैं। यूं भी जब मेंड़ ही खेत को खाने लगे तो खेत का अस्‍तित्‍व ही कहां बचेगा। प्रदेश की शिक्षा व्‍यवस्‍था इसी तरह अपने अस्‍तित्‍व को मिटते देख रही है।
सृजनात्‍मकता, नवोन्‍मेष को धता बताते हुए शिक्षामित्र, बीटीसी, बीएड, डीएड, डीएलएड, टीईटी, सीटीईटी के माध्‍यम नौकरी प्राप्‍त लगभग दर्जनभर से ज्‍यादा तरह के पदों पर ”कार्य” करने वाले शिक्षकों की भरमार के बावजूद प्राइमरी शिक्षा को स्‍वयं शिक्षकों ने ही मजाक बनाकर रख दिया है।
बच्‍चे स्‍कूलों से नदारद हैं, शिक्षक स्‍कूल आ ही नहीं रहे और यदि आ भी रहे हैं तो कक्षाएं नहीं ले रहे। बच्‍चे पहाड़े, पीएम, सीएम , जिले का नाम, दिन व महीनों तक के नाम नहीं बता पा रहे। आखिर इसके लिए कौन जिम्‍मेदार है। सरकार इसके लिए जब तनख्‍वाह दे रही है तो यह जिम्‍मेदारी किसकी है।
पिछले लगभग दो हफ्तों से मथुरा जिला प्रशासन लगातार जिले के सभी सरकारी स्‍कूलों में चेकिंग कर रहा है, आख्‍या में अनुपस्‍थित शिक्षकों की तनख्‍वाह काटी जाने की संस्‍तुति भी एडीएम कर रहे हैं, एबीएसए, बीएसए द्वारा रेगुलर चेकिंग न करने की शिकायत लिखित में दे रहे हैं, परंतु कुछ भी काम नहीं आ रहा और स्‍कूलों में शिक्षकों की मनमानी अपने चरम पर है।
शिक्षकों की इस सीनाजोरी के लिए मीडिया भी उतना ही दोषी है क्‍योंकि जब-जब शिक्षकों के धरना प्रदर्शन होते हैं तो बड़ी सी हेडलाइन, इनकी दुर्दशा को लेकर छापते हैं या दिखाते हैं परंतु शिक्षा की इस तरह दुर्दशा करने पर उन्‍हीं शिक्षकों के खिलाफ मीडिया एक शब्‍द नहीं लिखता।
हर महीने बंधी-बंधाई तनख्‍वाह के बावजूद शिक्षामित्र, सहायक शिक्षक आदि पदों पर बैठे अकर्मण्‍य लोग, बच्‍चों को शिक्षित करना तो दूर स्‍वयं ही अनुशासन तोड़ने के बहाने ढूढ़ते रहते हैं। वेतन भत्‍तों के लिए मरने-मारने पर हर वक्‍त आमादा तथा बात-बात में हाईकोर्ट और सुप्रीमकोर्ट पहुंचने वाले इन ”कथित” ठेकेदार शिक्षकों के बूते प्रदेश की शिक्षा व्‍यवस्‍था अपनी दुर्दशा से नहीं निकल सकती।
एक कड़वा सच ये भी है कि शिक्षा व्‍यवस्‍था जिन कांधों पर चढ़कर दौड़नी चाहिए थी, वे सिर्फ इसे ढो रहे हैं। अपने ”हालातों” के चलते शिक्षा जैसे उच्‍च्‍तम मानदंड वाले क्षेत्र में ”नौकरी” कर रहे 90 प्रतिशत शिक्षकों में शिक्षा देने का जज्‍़बा पूरी तरह से गायब है। जो स्‍वयं ही शिक्षा के मायने नहीं जानते, उनसे भला बच्‍चों को शिक्षित करने की आशा कैसे रखी जाए।
बहरहाल, ये हालात चिंतनीय हैं क्‍योंकि करोड़ों के बजट के बाद भी रिजल्‍ट शून्‍य है। वक्‍त आ गया है कि अब सरकार को ड्रेस, बस्‍ते, जूते, मिड डे मील से आगे बढ़कर सोचना होगा ताकि सरकारी स्‍कूलों में पढ़ने आने वाले बच्‍चों के भविष्‍य के साथ खिलवाड़ न हो सके।
शिक्षकों से तो इतना ही कहा जा सकता है कि…
ख्वाहिशों का मोहल्ला बहुत बड़ा होता है..
बेहतर है हम ज़रूरतों की गली में मुड़ जाएं..और अपने कर्तव्‍य को निभायें।
-अलकनंदा स‍िंह

शनिवार, 3 अगस्त 2019

Blogger of the Year 2019 : डॉ. चंद्रेश कुमार छतलानी व‍िजेता, मुकेश कुमार सिन्हा रहे उप विजेता


नई दिल्ली। Blogger of the Year 2019 का खिताब राजस्थान के डॉ. चंद्रेश कुमार छतलानी के नाम रहा और उप विजेता नई दिल्ली के मुकेश कुमार सिन्हा रहे। Blogger of the Year का फाइनल रिजल्ट 02 अगस्त को घोषित किया गया था।
नई दिल्ली के ब्लॉगर व कवि मुकेश कुमार सिन्हा रहे उप विजेता
गुजरात की प्रीति ‘अज्ञात’ टॉप 10 ब्लॉगरों में प्रथम स्थान पर रहीं
पूरे देशभर से हिन्दी भाषाई ब्लॉगरो ने किया था प्रतिभाग
गौरतलब है कि iBlogger के 4 वर्ष पूर्ण होने पर ब्लॉगर ऑफ द ईयर 2019 का कॉन्सेप्ट व थीम iBlogger द्वारा तैयार किया गया था एवं प्राची डिजिटल पब्लिकेशन द्वारा प्रायोजित किया गया था। ब्लॉगर ऑफ द ईयर 2019 के लिए विभिन्न क्षेत्र के हिन्दी ब्लॉगरों के आवेदन पूरे देशभर से प्राप्त हुए थे।
उपरोक्त आयोजन के अर्न्तगत प्रत्येक प्रतिभागी ब्लॉगर की प्रोफाइल को ब्लॉगर ऑफ द ईयर 2019 के बनाई गई विशेष निर्णायक टीम द्वारा अवलोकन किया गया और फिर उनकी प्रोफाइल को iBlogger पर पाठकों की समीक्षाओं व वोट के लिए उपलब्ध करा दिया गया था। ब्लॉगर ऑफ द ईयर 2019 का विजेता और उप विजेता का चुनाव पाठकों की समीक्षा, वोटिंग एवं निर्णायक मंडल के निर्णय के आधार पर किया गया। इसके अलावा टॉप 10 ब्लॉगर ऑफ द ईयर का चुनाव भी किया गया।
बता दें कि ब्लॉगर ऑफ द ईयर 2019 के विजेता डॉ. चंद्रेश कुमार छतलानी वर्तमान में एक विश्वविद्यालय में कम्प्युटर विज्ञान का शिक्षक के पद पर कार्यरत है। उन्होंने 100 से अधिक सॉफ्टवेयर और 50 से अधिक वैबसाइट का निर्माण किया है। लगभग 35 शोध पत्रिकाओं में संपादक के दायित्व का निर्वहन कर रहे हैं। 21 शोध पत्र प्रकाशित हुए हैं और 45 शोध पत्र विभिन्न संगोष्ठियों में प्रस्तुत किए हैं। तीन मोनोग्राफ (ISBN सहित) प्रकाशित हुए हैं। 7 राष्ट्रीय/राज्य स्तरीय सम्मान प्राप्त हुए हैं और 3 अन्य सम्मान हेतु चयन हुआ है। डॉ. छतलानी जी ने लगभग 150 लघुकथाएं लिखी हैं। लघुकथाओं के अतिरिक्त कविताएं, ग़ज़ल, गीत, कहानियाँ, बालकथाएं, बोधकथाएं, लेख एवं पत्र भी लिखे है। कई साहित्यिक प्रतियोगिताओं में श्रेष्ठ स्थान प्राप्त किया है।
वहीं, ब्लॉगर ऑफ द ईयर 2019 के उप विजेता मुकेश कुमार सिन्हा वर्तमान में केंद्रीय राज्य मंत्री, भारत सरकार, के प्रथम व्यक्तिगत सहायक हैं। उनकी “हमिंग बर्ड” कविता संग्रह और ‘लाल फ्रॉक वाली लड़की” (लप्रेक) का प्रकाशन हो चुका है। सिन्हा जी ने कारवां, कस्तूरी, पगडंडियाँ, “गुलमोहर”, “तुहिन”, “गूँज” व “100 कदम” (साझा कविता संग्रह) का सम्पादन भी किया है। इसके अलावा कई साहित्यक पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुके हैंं।
मुकेश कुमार सिन्हा को तस्लीम परिकल्पना ब्लोगोत्सव (अंतर्राष्ट्रीय ब्लोगर्स एसोसिएशन) द्वारा सर्वश्रेष्ठ युवा कवि का पुरुस्कार, “शोभना काव्य सृजन सम्मान”, परिकल्पना (अंतर्राष्ट्रीय ब्लोगर्स एसोसिएशन) द्वारा ‘ब्लॉग गौरव युवा सम्मान’, विक्रमशिला हिंदी विद्यापीठ से हिंदी सेवा के लिए ‘विद्या वाचस्पति, दिल्ली अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल से ‘पोएट ऑफ़ द इयरश’, ‘शेर-ए-भारत’ अवार्ड, करुणावती साहित्य धारा साहित्यिक पत्रिका द्वारा साहित्य सम्मान भी प्राप्त हो चुके है। उनकी कविताएँ कविता कोष में भी शामिल की गई है। ऑल इंडिया रेडियो, इन्द्रप्रस्थ रेडियो चैनल, चैनल वन टीवी पर कविता पाठ कर चुके है। APN News टीवी के म्यूजिकल शो “मेरा भी नाम होगा” में ज्यूरी में भी शामिल रहे हैं। मुकेश जी गत 6 वर्षो से एक साहित्यिक संस्था “गूँज” का परिचालन कर रहे हैं।
2019 के Top 10 ब्लॉगरों में प्रीति ‘अज्ञात’ प्रथम स्थान पर रहीं

top-10-blogger-of-the-year
top-10-blogger-of-the-year

इसी क्रम में 2019 के टॉप 10 ब्लॉगरों में देशभर के विभिन्न क्षेत्रों से 10 ब्लॉगर शामिल रहे।
गुजरात के अहमदाबाद से प्रीति अज्ञात ने टॉप 10 ब्लॉगरों में प्रथम स्थान प्राप्त किया है। प्रीति सुप्रसिद्व मासिक वेब पत्रिका ‘हस्ताक्षर’की संस्थापक एवं संपादक के साथ ही जागरूक ब्लॉगर, सामाजिक कार्यकर्त्ता, स्वतंत्र रचनाकार है। आपको भी कई सम्मानों से नवाजा जा चुका है। प्रीति जी का एक काव्य-संग्रह मध्यांतर प्रकाशित हो चुका है और ललित निबंध संग्रह प्रकाशनाधीन है। इसके अतिरिक्त 16 साझा संग्रहों (काव्य, कहानी, संस्मरण) में रचनाएँ प्रकाशित, 5 पुस्तकों का संपादन तथा एक दर्ज़न से भी अधिक पुस्तकों की भूमिका एवं समीक्षा लेखन कर चुकीं है। आपको कई सारे सम्मान प्राप्त हो चुके है।
महाराष्ट्र के नई मुम्बई से सुधा सिंह ने टॉप 10 ब्लॉगरों में द्वितीय स्थान प्राप्त किया है। सुधा जी एक गृहणी एवं अध्यापिका है।
महाराष्ट्र के मुम्बई से ज्योति देहलीवाल ने टॉप 10 ब्लॉगरों में तृतीय स्थान प्राप्त किया है। ज्योति जी गृहणी के साथ ही बेहतरीन ब्लॉगर है।
उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले से नीलेन्द्र शुक्ल “नील” ने टॉप 10 ब्लॉगरों में चौथा स्थान प्राप्त किया है। नीलेन्द्र युवा कवि और ब्लॉगर है। उनकी एक “पुस्तक तेरी परछाईयाँ जो हमसफर है” अभी पिछले दिनो ही प्रकाशित हुई है।
बिहार से प्रज्ञा मिश्रा ने टॉप 10 ब्लॉगरों में पांचवा स्थान प्राप्त किया है। प्रज्ञा जी सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में कार्यरत हैं। आपको मुक्तांगन-कविता कोश नव प्रतिभा प्रोत्साहन योजना के पाँचवें चरण में कविता “आम का अचार” के लिए 10 जुलाई 2018 को द्वितीय पुरस्कार, मुम्बई के प्रसिद्ध स्लैम पोएट्री प्लेटफार्म पर द हैबिटैट में जून 2018 में आयोजित एक पोएट्री टूर्नामेंट में इम्प्रोम्पटू कविता “जगरना” के लिए प्रथम पुरस्कार प्राप्त हो चुका है।
हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले की सुमन कपूर ‘सु-मन’ ने टॉप 10 ब्लॉगरों में छठा स्थान प्राप्त किया हैं। सुमन वर्तमान में ग्रामीण विकास विभाग में Accountant के पद पर कार्यरत हैं।
राजस्थान के जयपुर जिले से अभिलाषा चौहान ने टॉप 10 ब्लॉगरों में सातवां स्थान प्राप्त किया है। अभिलाषा ने अपने जीवन के 15 वर्ष शिक्षा के क्षेत्र में बिताएं है।
नवीन श्रोत्रिय उत्कर्ष ने टॉप 10 ब्लॉगरों में आठवां स्थान प्राप्त किया है। नवीन जी वाणिज्य के पेशे से जुड़े हुए है।
नूपुर शांडिल्य ने टॉप 10 ब्लॉगरों में नौवा स्थान प्राप्त किया है। नूपुर जी दो दशकों से अधिक प्रसार भारती (आकाशवाणी और दूरदर्शन ) में कार्यरत रह चुकीं है और अब वर्तमान में फ्रीलांसर हैं। आपकी नवांकुर प्रकाशन और शब्दांकुर प्रकाशन के काव्य संग्रह “काव्यालय”और “काव्यांकुर 6” में वरिष्ठ कवियों द्वारा चयनित और प्रकाशित हो चुकी है।
उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले से डॉ. सुशील कुमार जोशी ने टॉप 10 ब्लॉगरों में दसवां स्थान प्राप्त किया है। जोशी जी वर्तमान में कुमाउँ विश्वविद्यालय नैनीताल के सोबन सिंह जीना परिसर अल्मोड़ा के रसायन विज्ञान विभाग में भौतिक रसायन विषय के प्राध्यापक पद में कार्यरत हैं।
http://legendnews.in/blogger-of-the-year-2019-award-to-dr-chandresh-kumar-chhatlani/

बुधवार, 17 जुलाई 2019

354 A, B, C, D कानून: बीएचयू का मामला, अकेला मामला नहीं है


कोई दूसरा क्‍या मारेगा, जब महिलाऐं स्‍वयं ही अपनी कुल्‍हाड़ियों का बोझ, अपने ही कांधों पर लादे हुए हों,
अपनी सहूलियतों पर स्‍वयं कुठाराघात करने पर आमादा हों और शिकायत ये कि दुनिया हमें क्‍यों सताती है।
यौन उत्‍पीड़न में भी कुछ महिलाओं ने कानूनों का दुरुपयोग करके अत्‍याचार की वास्‍तव में शिकार हुई महिलाओं को भी अविश्‍वास के घेरे में खड़ा कर दिया है। यानि 354 A, B, C, D (यौन उत्पीड़न) कानून का दुरुपयोग कर कुल्‍हाड़ी पर स्‍वयं ही पैर दे मारा है और इसका परिणाम उन सभी महिलाओं को भुगतना होगा जो वास्‍तव में पीड़िता हैं।
बीएचयू का एक वाकया सामने आया है जहां एक शोध छात्रा द्वारा शिक्षा संकाय प्रमुख पर यौन उत्‍पीड़न का आरोप लगाया गया, हालांकि न केवल शिक्षक बल्‍कि साथी छात्रों ने भी इस बात की तसदीक कर दी है कि कम उपस्‍थिति को लेकर दी गई हिदायत छात्रा को हजम नहीं हुई और उसने ये ”विक्‍टिम कार्ड” खेला। अब विश्‍वविद्यालय कुलपति के निर्देश पर मामले की जांच को कमेटी बना दी गई है। 11 जुलाई को डीन ने कमेटी के सामने कहा कि सारा मामला कम उपस्‍थिति का है, क्‍योंकि कुछ छात्र फैलोशिप तो लेते रहते हैं परंतु क्‍लास अटेंड नहीं करते जबकि उक्‍त शोध छात्रा के गाइड तीन साल पहले ही रिटायर हो चुके हैं। जब उपस्‍थिति की जांच की गई और कई बार रिमांइंडर भी दिये गये तो उक्‍त छात्रा ने यौन उत्‍पीड़न मामले में फंसाने की धमकी भी दी। अब उस छात्रा ने कुलपति को पत्र लिखकर शिकायत कर इस मामले को सुर्खियों में ला दिया है।
जांच कमेटी सच का पता लगा लेगी परंतु एक बात निश्‍चित जानिए कि विवि प्रशासन के साथ सास बहु जैसे रिश्‍ते रखने वाले छात्र संघ इसे भुनाने में पीछे नहीं हटेंगे, संभावना इस बात की भी है कि इनके दबाव के बाद छात्रा को कथित ”न्‍याय” मिल भी जाए मगर क्‍या ये सही होगा।
कौन नहीं जानता कि कुछ समय पहले तक दहेज उत्‍पीड़न और दहेज हत्‍या रोकने को बनाया कानून ”दहेज निषेध अधिनियम, 1961” भी अपने ऐसे ही दुरुपयोग के कारण अहमियत खोता गया क्‍योंकि दहेज के बहाने ससुराल पक्ष को धमकाना, प्रताड़ित करना इसका मुख्‍य उद्देश्‍य बन गया। इसीतरह दुष्‍कर्म और यौन उत्‍पीड़न रोकने को आईपीसी की धारा 354 (छेड़खानी), 354 A, B, C, D (यौन उत्पीड़न) और धारा 375 (दुष्कर्म) है परंतु अब देखने में आ रहा है कि महिलाऐं अपना उद्देश्‍य पूरा करने को इन कानूनों का दुरुपयोग धड़ल्‍ले से कर रही हैं क्‍योंकि आईपीसी की धारा 354, 354 A, B, C, D और धारा 375(दुष्कर्म) के प्रावधानों में सिर्फ पुरुष को अपराधी माना गया है और महिला को पीड़िता। इसी प्राविधान का लाभ उठाते हुए कई मामलों में तो पूरे षडयंत्र के तहत परिवारीजन ही इसे प्‍लांट करते हुए पाए गए।
बहरहाल यौन उत्‍पीड़न कानून को अपना हथियार बनाने वाली ऐसी ही महिलायें उन महिलाओं के पैरों पर कुल्‍हाड़ी मारने का काम कर रही हैं जो वास्‍तव में प्रताड़ना की शिकार हैं। बीएचयू जैसी खबरों की बढ़ती तादाद के बाद यौन उत्‍पीड़न मामलों में महिलाओं को लेकर सहानुभूति अब संशय में बदल रही है, यह आत्‍मघाती स्‍थिति महिला हितकारी कानूनों को तहस नहस कर देगी।
-अलकनंदा सिंह