शुक्रवार, 10 जनवरी 2020

MatruBharti.com ने पुस्तक मेला में द‍िए रीडर्स च्वाॅइस अवार्ड

नई दिल्‍ली। विश्व पुस्तक मेला 2020 आज फिर हिंदी लेखकों के नाम रहा। लेखकों को हमेशा से मानदेय से ज़्यादा उनका सम्मान प्रिय होता है क्योंकि लेखन एक ऐसी कला है जिसका मूल्य पैसों में लगाया जाना सम्भव नहीं। इन लेखकों को सम्मानित करने के उपलक्ष्य में MatruBharti.com ने एक नई पहल ‘रीडर्स च्वाइस अवार्ड’ का आयोजन विश्व पुस्तक मेले के सेमिनार हॉल में किया।
कार्यक्रम में ज‍िन लेखक- लेखिकाओं को ‘रीडर्स च्वाइस अवार्ड से सम्मानित किया गया जिसमें लखनऊ के आशीष कुमार त्रिवेदी, ब्लॉगर सर्वेश सक्सेना, सूरज प्रकाश, सुभाष नीरव, उमा वैष्णव, कविता शर्मा एवं राज कमल आदि लेखक शामिल हैं।
गौरतलब है कि मातृभारती डॉट कॉम ऑनलाइन प्लेटफॉर्म है जो 30 हज़ार से अधिक लेखकों की रचनाएं 1.5 लाख से अधिक पाठकों से साझा करने में सफल रहा है। यह एक वेबसाइट और एप के माध्यम से लोगों को जोड़ता है और साहित्य प्रेमियों के एक बड़े समूह को निशुल्क सेवा प्रधान करता है।
मातृभारती डॉट कॉम के सीईओ महेंद्र शर्मा ने बताया क‍ि हम हिंदी में लिख रहे उन सभी लेखकों को सम्मानित करते हैं जिन्होंने ऑनलाइन रीडिंग को पाठकों के लिए दिलचस्प बनाया है और लगातार इस मुहिम में वे अपना योगदान दे रहे हैं। हिंदी सहित्य केवल अखबारों व किताबों पर निर्भर नहीं, अब ऑनलाइन माध्मय से भी यह पाठकों को आकर्षित करती हैं।
– Legend News

6 टिप्‍पणियां:

  1. मैंने ब्लॉग बनाने से भी पहले मातृभारती पर ही अकाउंट बनाया था किंतु मुझे वह अच्छी तरह समझ में नहीं आया। ठीक से कोई जानकारी भी नहीं मिली। हालांकि हमारे ही शहर की श्रीमती निवारोजिन मातृभारती पर गुजराती की प्रतिष्ठित लेखिका हैं।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी मीना जी , श्रीमती निवारोजिन केेबारे में बताने के ल‍िए धन्यवाद , उन्हें पढ़कर देखती हूं

      हटाएं

  2. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चार्च आज सोमवार  (13-01-2020) को  "उड़ने लगीं पतंग"  (चर्चा अंक - 3579)  पर भी होगी।
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है 

    जवाब देंहटाएं
  3. जी रवींद्र जी , अपने चर्चामंच पर इसे शाम‍िल करने के ल‍िए आभार

    जवाब देंहटाएं